June 11, 2024
DRS full form in hindi

DRS Full Form in Hindi | DRS फुल फॉर्म क्या है?

नमस्कार दोस्तों, क्रिकेट में DRS एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके तहत टीम इसका उपयोग कर के On field umpire के दिए निर्णय को बदल सकती है और DRS तकनीक का फायदा लेते हुए सही निर्णय ले सकती है। DRS लेने के लिए टीम के कैप्टन को (T) sign बनाते हुए अंपायर को इशारा करना होता है और निर्णय को 10 सेकेंड के भीतर ही लेना होता है।

अगर 10 sec के अंदर decision नहीं ले पाए तो आप इसका फायदा उठाने से वंचित रह जाएंगे। DRS लेने के लिए हर टीम को क्रिकेट के किसी भी फॉर्मेट में 2 मौके मिलते हैं और अगर Umpires call होती है तो टीम को DRS वापस मिल जाता है। आज स सालों पहले DRS का इस्तेमाल केवल Test match में किया जाता था पर वर्ष 2017 के बाद से ICC ने इसे क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में मान्य कर दिया है और टीम क्रिकेट के किसी भी फॉर्मेट में DRS ले सकती है मगर केवल दो बार ही ले सकती है और अगर उनका फैसला गलत हुआ तो DRS विफल भी ही जाता है।

बहुत से लोग DRS सिस्टम के बारे में तो जानते है परन्तु उन्हें DRS full form नहीं पता होता है। तो चिंता की बात नहीं है अगर आप DRS full form in hindi जानना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें। आज के इस लेख में हम आपको DRS full form in hindi की पूर्ण जानकारी देने वाले है।

DRS full form in Hindi

आइए जान लेते हैं कि क्रिकेट में DRS ka full form क्या होता है तो DRS का फूल फॉर्म है डिसीजन रिव्यू सिस्टम (Decision Review System)

D- Decision
R- Review
S- System

DRS full form in hindi

इसके अलावा कभी कभी लोग DRS को UDRS भी बोलते हैं। उद्र का फूल फॉर्म (Umpire Decision Review System) होता है।

U- Umpire
D- Decision
R- Review
S- System

DRS की प्रक्रिया क्या होती है?

जब भी किसी टीम को लगता है कि अंपायर का फैसला गलत है तो वह अंपायर के हाथ पर टी मार्क लगाकर डीआरएस का इस्तेमाल कर सकती है। लेकिन खिलाड़ी को यह फैसला 10 सेकेंड के अंदर ही लेना होता है, नहीं तो वह इसका फायदा उठाने से चूक सकता है। यह समीक्षा प्रणाली लेने के बाद तीसरे अंपायर के फैसले की समीक्षा करता है। अगर रिव्यू के दौरान थर्ड अंपायर को लगता है कि खिलाड़ी आउट नहीं हुआ है तो ऐसे में थर्ड अंपायर फैसला बदल देता है। अगर रिव्यू के दौरान फर्स्ट अंपायर का फैसला सही पाया जाता है तो उसके फैसले को बरकरार रखा जाता है।

DRS का प्रयोग

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद द्वारा डीआरएस की सीमा भी तय की गई है और प्रत्येक टीम को एक मैच में 2 डीआरएस की अनुमति है, जिसका अर्थ है कि कोई भी टीम इसे दो बार तय कर सकती है।

लेकिन अगर डीआरएस में अंपायर का फैसला गलत है, तो उस डीआरएस को 2 बार की सीमा में नहीं गिना जाएगा और अगर डीआरएस में अंपायर का फैसला सही है, तो 2 बार इस्तेमाल करने के बाद टीम के डीआरएस का इस्तेमाल होगा। खत्म हो चुका। हुह।

निष्कर्ष

आशा है या आर्टिकल आपको बहुत पसंद आया हुआ इस आर्टिकल में हमने बताया (DRS full form and meaning in hindi language) के बारे मे संपूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगे तो आप अपने दोस्तों के साथ भी Share कर सकते हैं अगर आपको कोई भी Question हो तो आप हमें Comment कर सकते हैं हम आपका जवाब देने की कोशिश करेंगे।

FAQ

डीआरएस फुलफॉर्म क्या है?

डीआरएस के फुलफॉर्म के बारे मे आर्टिकल मे बताया है।

क्रिकेट में रिव्यू कैसे लिया जाता है?

केवल एक मामले में एक एलबीडब्ल्यू निर्णय गेंदबाज के पक्ष में उलट जाएगा यदि बल्लेबाज विकेट से 2.5 मीटर दूर है, यदि दूरी 3.5 मीटर से कम है और पिचिंग और प्रभाव के बिंदु के बीच की दूरी 40 सेमी से कम है . ऐसे में गेंद का कुछ हिस्सा बीच के स्टंप से लगेगा और पूरी गेंद गिल्ली के नीचे वाले स्टंप से लगेगी.

डीआरएस के नियम क्या हैं?

ड्राइवर डीआरएस के साथ क्या कर सकते हैं? ड्राइवर डीआरएस को तभी सक्रिय कर सकते हैं जब वे निर्दिष्ट सक्रियण क्षेत्रों में हों और जब वे दौड़ में उनके सामने कार के एक सेकंड के भीतर हों – इसमें बैकमार्कर ट्रैफ़िक शामिल है। अभ्यास और योग्यता में, केवल निर्दिष्ट क्षेत्रों में अनुमति देने के अलावा, डीआरएस का उपयोग अप्रतिबंधित है।

DRS में अंपायर की कॉल क्या है?

हालाँकि, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के मौजूदा नियमों के अनुसार, एलबीडब्ल्यू अपील के समय गेंद का कम से कम 50 प्रतिशत डीआरएस के दौरान तीन स्टंप में से किसी एक पर लगना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो मैदानी अंपायर का फैसला मान्य होगा. इस दौरान मैदानी अंपायर के लिए लिए गए फैसले को ‘अंपायर्स कॉल’ कहा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *