February 24, 2024
hockey mein ek team mein kitne khiladi badale ja sakte hain

हॉकी में एक टीम कितने खिलाड़ी बदल सकती है?

हॉकी में एक टीम कितने खिलाड़ी बदल सकती है: दोस्तों, हॉकी को भारत के राष्ट्रीय खेल के तौर पर देखा जाता है, और ओलंपिक की वजह से हॉकी का रुझान भारतीय युवाओं में काफी जगह देखने को मिला है। मेजर ध्यानचंद जैसे शानदार हॉकी खिलाड़ियों की वजह से भारत का नाम विश्व स्तर पर सबसे ऊंचा देखने को मिला है।

इसलिए हॉकी के बारे में हमारी जानकारी भी दुरुस्त होनी जरूरी है। क्या आप जानते हैं कि हॉकी में एक टीम कितने खिलाड़ी बदल सकती हैं? या हॉकी की गेंद को हॉकी की किस हिस्से से मारा जाता है? या हॉकी के खेल में वह कौन सा खिलाड़ी होता है जो बिना हॉकी स्टिक के भी हॉकी की बॉल से खेल सकता है?

यदि आप इन सब के बारे में नहीं जानते लेकिन जानना चाहते हैं तो आज के लेख में हमारे साथ बने रहिएगा। क्योंकि आज हम आपको इन सब के बारे में पूरी जानकारी देते हुए आपको बताइए कि हॉकी में एक टीम कितने खिलाड़ी बदल सकती है।

तो चलिए शुरू करते हैं-

हॉकी में एक टीम कितने खिलाड़ी बदल सकती है?

दोस्तों, एक हॉकी के खेल में आमतौर पर दोनों टीमों के पास 11-11 खिलाड़ी होते हैं। जिनमें 10 तो फील्ड प्लेयर होते हैं, और एक गोलकीपर होता है। इन सबको मिलाकर 11 खिलाड़ी होते हैं। लेकिन इन 11 खिलाड़ियों के अलावा भी पांच सब्सीट्यूट खिलाड़ी बेंच पर बैठे हुए होते हैं। यानी कि एक हॉकी के खेल में पांच खिलाड़ियों को सब्सीट्यूट किया जा सकता है, यानी कि बदला जा सकता है। यह पांच खिलाड़ी कितनी बार भी बदले जा सकते हैं। एक चलते गेम में अनलिमिटेड टाइम यह पांचों खिलाड़ी बार-बार बार-बार बदले जा सकते हैं।

हॉकी की गेंद को हॉकी के किस हिस्से से मारा जाता है?

hockey mein ek team mein kitne khiladi badla ja sakta hai

यदि आप हॉकी के खेल को बड़े ध्यान से देखते हैं तो हम आपको बता दें कि हॉकी के खेल में हॉकी की गेंद को हॉकी के सपाट हिस्से के अलावा अन्य किसी हिस्से से मारना फाउल माना जाता है।

यदि कोई खिलाड़ी ऐसा करता है तो उसे खेल से निकाला भी जा सकता है।

हॉकी के खेल को खेलते समय यह जरूरी है कि खिलाड़ी गेंद को केवल हॉकी के सपा किस्से से मारे।

इसके अलावा गेंद पर किसी भी प्रकार से खिलाड़ी के शरीर के अन्य भाग टच नहीं होने चाहिए।

गोलकीपर के लिए यह नियम लागू नहीं है।

हॉकी के खेल के नियम क्या है?

हॉकी के खेल का सबसे पहला नियम यह है कि हॉकी की फ्लैट साइड से हॉकी की गेंद को मारा जा सकता है। अन्य किसी भाग से नहीं गोलकीपर को छोड़कर कोई भी अन्य व्यक्ति अपने शरीर के अन्य भाग से हॉकी की गेंद को रोकने का या मारने का काम नहीं कर सकता।

कोई भी हॉकी का खिलाड़ी पेनल्टी स्ट्रोक पेनल्टी कॉर्नर फील्ड गोल इन सब के माध्यम से गोल कर सकता है। इसके अलावा कोई भी हॉकी का खिलाड़ी गोल नहीं कर सकता। हॉकी के खेल में खिलाड़ी दूसरे खिलाड़ी को टच नहीं करता है।

यदि किसी भी प्रकार से किसी खिलाड़ी को धक्के देने का, खींचने का या गिराने का कार्य किसी भी टीम के खिलाड़ी द्वारा किया जाता है तो यह पूरी तरह से फाउल माना जाता है।

हॉकी के खेल में कौन-कौन से फाउल होते हैं?

हॉकी के खेल में कई प्रकार के फाउल होते हैं जैसे कि ऑब्स्ट्रक्शन फाउल, थर्ड पार्टी फाउल, ऑब्स्ट्रक्शन फाउल, एडवांसिंग फाउल, बैकस्टिक फाउल, हॉकी स्टिक, इंटरफ्रेंस फाउल अंडरकटिंग फाउल, एंड स्टिक फाउल।

Also read:

क्रिकेट पर निबंध – Essay on cricket in hindi आइस हॉकी में कितने खिलाड़ी होते हैं?
फुटबॉल में कितने खिलाड़ी होते हैं? बेसबॉल में कितने खिलाड़ी होते हैं?
कब्बड़ी में कितने खिलाड़ी होते हैं? भारतीय क्रिकेट टीम में सबसे फिट खिलाड़ी कौन है?
टेनिस में कितने खिलाड़ी होते हैं? वॉलीबॉल में कितने खिलाड़ी होते हैं?

निष्कर्ष

आशा है या आर्टिकल आपको बहुत पसंद आया हुआ इस आर्टिकल में हमने बताया hockey mein ek team mein kitne khiladi badal sakte hain bataiye के बारे मे संपूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगे तो आप अपने दोस्तों के साथ भी Share कर सकते हैं अगर आपको कोई भी Question हो तो आप हमें Comment कर सकते हैं हम आपका जवाब देने की कोशिश करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *